Chai Shayari - दोपहर की चाय पर शायरी

 Chai Shayari - दोपहर की चाय पर शायरी

 Chai Shayari  दोपहर की चाय पर शायरी की पोस्ट में हम आपके लिए बढ़िया और नई चाय पर शायरियां लाए है जिन्हे आप फुरसत में दोपहर की चाय पर पढ़ सकते है या शेयर कर सकते है।  Chai Ki Shayari पर यह हमारी दूसरी पोस्ट है और हम पहली चाय शायरी स्टेटस पर मिले आप के प्रतिसाद के लिए आपके बहुत आभारी है। हमे आशा है की हमारी चाय शायरी की यह Post भी आपको बहुत पसंद आएगी।
  जिन्हे चाय बहुत पसंद होती है उनके लिए एक दिन भी चाय के बिना रह पाना बहुत मुश्किल हो जाता है। समय पर चाय ना मिलने पर दिल बेचैन होने लगता है। बस एक चाय हमे उस वक्त सुकून के लिए जरूरी होती है। जब तक सुबह में चाय ना मिले तब तक हमारे दिन की भी शुरुआत कहा होती है! दोपहर में भी ताजगी के लिए हमे एक चाय बहुत जरूरी होती है। ऐसी ही हमारी पसंदिता चाय पर कुछ शायरियां प्रस्तुत है।

दोपहर की चाय शायरी


माना सुबहों शाम तुम्हें है लाखो काम
पर अपने दिल की भी कभी तो सुनो
हमने कब कहा पूरा दिन गुजारो, पर
किसी दोपहर में चाय पर तो मिलो..

Maana Subahon Sham Tumhen Hai Laakhon Kaam
Par Apne Dil Ki Bhi Kabhi To Suno
Humne Kab Kaha Pura Din Guzaaro, Par
Kisi Dophar Mein Chai Par To Milo..


दोपहर की चाय की तरह हो गए हो..
तुम्हारे बिना दिन आगे नहीं बढ़ता..

Doohar Ki Chaai Ki Tarah Ho Gaye Ho..
Tumhare Bina Din Aage Nahi Badhta..


चाय में इलायची जितना असर करती है
तुम्हारी हसीं मेरे दिल तक सफर करती है

Chai Mein Ilayachi Jitna Asar Karti Hai
Tumhari Hansi Mere Dil Tak Safar Karti Hai



Chai Par Shayari




जिंदगी में परेशानियां तो 
आती जाती रहती है, मगर 
चाय पीने के बाद दुनिया 
थोड़ी मीठी सी लगती है

Zindagi Mein Pareshaniyan To
Aati Jaati Rahati Hai, Magar 
Chai Peene Ke Baad Duniya
Thodi Meethi Si Lagati Hai!
 

तुम्हारे हाथों की चाय के लिए
देखो हम क्या कुछ छोड़ आए है,
एक फाइल भूल गए है घर पर
कहकर ऑफिस छोड़ आए है.!


Tumhare Hathon Ki Chai Ke Liye
Dekho Hum Kya Kuch Chhod Aaye Hai,
Ek File Bhul Gaye Hai Ghar Par
Kahkar Office Chhod Aaye Hai.!

ज़िंदगी है, बेहतर होगी, थोड़ा सब्र करो..
बढ़िया चाय भी वक्त लेती है, उबलने के लिए..

Zindagi Hai, Behtar Hogi, Thoda Sabr Karo..
Badhiya Chai Bhi Waqt Leti Hai, Unalne Ke Liye..


Chai Shayari Hindi Mein


भला चाय से हमारा दिल क्यों ना लगे
पानी के बाद इससे ज्यादा पिया क्या है.!

Bhalaa Chai Se Hamara Dil Kyon Naa Lage
Paani Ke Baad Isse Zyada Peeya Kya Hai.!


जरूरत है मुझे तुम्हारी सुबह, शाम, हर घड़ी..
तुम सच में बहुत अच्छी चाय बनाती हो.!

Jarurat Hai Mujhe Tumhari Subah, Shaam, Har Ghadi
Tum Sach Mein Bahut Achhi Chai Banaati Ho.!


चाय में जिंदगी की मज़ा है
इसके बिना जिंदगी सजा है

Chai Mein Zindagi Ki Mazaa Hai
Iske Bina Zindagi Sazaa Hai

आज चाय की टपरी पर कोई शक्स
एक किस्सा सुना रहा था..
उसके किस्से में भी चाय थी, शायद 
कोई मीठी याद सुना रहा था..

Aaj Chai Ki Tapri Par Koi Shaks
Ek Kissa Suna Raha Tha..
Uske Kisse Mein Bhi Chai Thi, Shayad
Koi Meethi Yaad Suna Raha Tha..




एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ